बयाना । बयाना विधानसभा क्षेत्र से तीन बार विधायक रहे बृजेन्द्र सूपा का लम्बी बीमारी के बाद हुआ निधन ।


बयाना । पूर्व विधायक रहे बृजेन्द्र सूपा की लम्बी बीमारी के बाद गुरुवार देर रात जयपुर के अपैक्स हॉस्पिटल में अपनी अंतिम सांस ली। अशोक गहलोत सरकार के पिछले कार्यकाल में उनको राज्यमंत्री का दर्जा देते हुए राजस्थान राज्य पशुपालन बोर्ड का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था।


विधायक निर्वाचित होने से पहले बृजेन्द्र सूपा बयाना पंचायत समिति की पालीडांग ग्राम पंचायत के सरपंच रहे, इसी दौरान वो भरतपुर के जिलाप्रमुख भी रहे थे। सूपा के निधन के समाचार मिलते ही क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गयी, उनका मृदुभाषी स्वभाव, मुद्दों और जनसमस्याओं पर गहरी पकड़ ने उनको समाज के हर तबके में लोकप्रियता दिलायी।जातिवाद से परे वो सभी कौमों के लोगों में समान रूप से स्वीकार्य नेता थे।


स्टेशन रोड स्थित उनके निजी निवास से आज हजारों लोगों की मौजूदगी में अन्तिम यात्रा सुबह 9 बजे उनके पैतृक गांव सूपा के लिए रवाना हुई, जहाँ पार्थिव देह को उनके पुत्र दिनेश ने मुखाग्नि दी। इस दौरान राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रतिनिधि के रूप में राज्यमंत्री भजन लाल अन्त्येष्टि में शामिल हुए, उन्होंने पुष्पचक्र अर्पित कर दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि दी। शाम को राज्य सरकार के कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने भी बयाना आकर शोक संतप्त परिवार के शोकाकुल परिजनों को बंधाया ढांढस और सांत्वना दी।



live-tv-namaste-gaon.png

recent posts

Recent Posts Widget

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

2 साल बाद फिर से छलकी जयसमंद झील, रात करीब 12.32 मिनट पर छलका जयसमन्द झील का पानी

भीड़ के इस इन्साफ से मानवता पर सवाल , युवक के साथ दुराचार

सलुम्बर । ईडाणा माता मंदिर का दान पात्र खुला, निकले 19 लाख नकद, 3 किलो चांदी और 1 तोला सोना

जयसमन्द झील छलकने को आतुर

कानोड के केसरपुरा में युवती ने लगाई फांसी

उदयपुर-चित्तौडग़ढ़ सहित 6 ज़िलों में भारी बारिश की सम्भावना, प्रशासन अलर्ट पर

सलूंबर | बस्सी में भैंस चराते बुजुर्ग के कान की बालियां लूटी, पुलिस ने की नाकाबंदी

लूणदा में बैखौफ हुए चोर, बुजुर्ग को मारी ईंट

भीण्डर । पूर्व पालिकाध्यक्ष देवेन्द्र सिंह व वल्लभनगर विधायक गजेन्द्र सिंह की माता कैलाश कुंवर का निधन

भिंडर के सालेड़ा में आकाशीय बिजली से हुए हादसे में मृतको के परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से चार-चार लाख रुपये के चेक दिए