arrow_back
पुलवामा हमले की पहली बरसी आज

14 फरवरी 2019 में जम्मू कश्मीर के लेथपोरा पुलवामा में आतंकवादियों ने सीआरपीएफ के 40 जवानों को एक साथ निशाना बनाया था। इस आत्मघाती हमले से एक बार के लिए पूरे देश में ही सन्नाटा छा गया था। लोगों ने जब पुलवामा हमले के बाद का नजारा देखा तो दिल दहल गया था। हर किसी के आंसू रूक नहीं पाए थे और सब के पास एक ही सवाल था यह क्या हो गया अपने कश्मीर में। 


खून से लथपथ थी वहां की सड़के, चारों तरफ जवानों की लाशें ही नजर आ रही थी। देश के लिए शहीद हुए जवानों की बस यादें रह गई। 14 फरवरी पुलवामा हमले में शहिद हुए जावानों को याद करने का दिन बनकर रह गया। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल सीएपीए​फ के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी ने हमला कर दिया था। पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड मुदस्सिर अहमद खान के करीबी सहयोगी ने मिलकर हमले की साजिश रची थी। 


इस हमले के बाद देश एक बड़े बदलाव की राह पर आगे बढ़ता हुआ नजर आया। पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय सेना ने कई आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर कार्रवाई को अंजाम दिया। पाकिस्तान को सबक सिखाने और आतंक की जड़ों को समाप्त करने के लिए केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करते हुए आर्टिकल 370 हटा दिया। 


इस मौके पर नमस्ते गांव की टीम आज के दिन शहीद हुए जवानों को सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित करती है।


HOT NATIONAL SOCIAL
3 तालियाँ

यह लेख हमारे संपादक द्वारा पत्रकार द्वारा, प्रदान की गई जानकारी के आधार पर पढ़ा और संपादित किया जाता है। हालांकि हमने लेख को सत्यापित करने की पूरी कोशिश की। लेकिन हम किसी गलत सूचना, अधूरी जानकारी, टाइपिंग गलतियों, तकनीकी त्रुटियों आदि के लिए उत्तरदायी नहीं हैं।

सम्बंधित खबरें